ऐ ज़िंदगी गले लगा ले।

ऐ ज़िंदगी ना जाने क्या कर रहा हूँ मैं,
तुझे जीने के लिए हर रोज़ मर रहा हूँ मैं। 

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

जिसे दुनियाँ माँ कहती है।

सुनो तुम्‍हारी याद आ रही है।

एक अधूरी सी मुलाक़ात